31 जुलाई 2017

अनुच्छेद 142 (Article 142): सर्वोच्च न्यायालय अपने विशेष अधिकार क्षेत्र के तहत इस अधिकार का अभ्यास किसी आदेश को पारित कर करने में या ऐसा आदेश बनाने में कर सकता है जोकि इसके अंतर्गत लंबित हो या मामले को न्याय करने की आवश्यक हो. इस अनुच्छेद की वजह से सुप्रीम कोर्ट किसी भी मामले में हस्तक्षेप कर सकता है जो इससे सामने आता है। हाल ही में, सर्वोच्च न्यायालय ने दो टूटे फर्मों को अपने विवादों का निपटान करने की अनुमति दी है। हालांकि उनका मामला नेशनल कंपनी लॉ ट्रिब्यूनल (एनसीएलटी) में था।

सॉव्रेन गोल्ड बॉण्ड (Sovereign Gold Bond): सरकार ने इस बॉंड की सीमा में 4 किलोग्राम (0.5 किलोग्राम से) प्रति व्यक्ति, एचयूएफ और ट्रस्ट के लिए 20 किलो अधिकतम सीमा में वृद्धि की है। इस परिवर्तन का मुख्य उद्देश्य अमीर किसानों और ट्रस्ट को इस बांड योजना में निवेश करने के लिए प्रोत्साहित करना है।

जैविक-गोंद (Bio-glue): एक डबल-स्तरीय हाइड्रोगेल जिसमें एक एल्जेनेट-पॉलीएक्लाइमाइड मैट्रिक्स होता है इसकी सतह से धनात्मक पॉलिमर होते है जो चिपकने वाली परत का समर्थन करता है. यह तीन तंत्रों के माध्यम से जैविक ऊतकों के लिए पॉलिमर बंधन बनता है – इलेक्ट्रोस्टैटिक आकर्षण जो नकारात्मक सतहों पर काम करता है, पड़ोसी परमाणुओं के बीच सहसंयोजक बंधन, और शारीरिक अंतर-विभाजन, यह तीनो चिपकने वाली सतह को बहुत मजबूत देता है.

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s